Ticker

6/recent/ticker-posts

Computer Motherboard क्या होता है? Best Quality का Motherboard कैसे चुनें ?

नमस्कार दोस्तों, आज मैं आपको बताऊंगा मदरबोर्ड क्या है? What is Motherboard in Hindi?, Motherboard की कार्य प्रणाली क्या है? और Best Quality का Motherboard कैसे चुनें? तो चलिए शुरू करते हैं:


Motherboard kya hai - What is Motherboard in Hindi

मदरबोर्ड क्या है ? What is Motherboard in Hindi 


वर्तमान/आधुनिक समय में कंप्यूटर और लैपटॉप के डिजाइन और आकार बहुत छोटे होते जा रहे हैं। Motherboard एक कंप्यूटर सिस्टम का बहुत महत्त्वपूर्ण पार्ट-पुर्जा है। यह डिवाइस कंप्यूटर की रीढ़ की हड्डी के समान होता है। एक कंप्यूटर में लगा हुआ motherboard छोटे-मोटे सभी पुर्जों को आपस में जोड़ता है। 


आसान शब्दों में कहा जाए तो यह एक PCB (Printed Circuit Board) होता है जो बड़ी कुशलता से कंप्यूटर के सभी device को संचालित करता है। सामान्य तौर पर एक PCB / Motherboard में Hard disk, RAM, Graphics Card, Battery Cell, DVD Drive set और अन्य उपयोगी पुर्जे लगे होते हैं और इन सब को motherboard पर लगे Power supply system से ज़रूरी ऊर्जा (Power supply) प्रदान की जाती है।


Motherboard की कार्य प्रणाली क्या है?


BIOS – किसी भी कंप्यूटर सिस्टम को चालू करने पर सबसे पहले जो दृश्य दिखता है, उसे ही BIOS कहा जाता है।BIOS का पूरा नाम Basic Input Output System होता है। यह एक कंप्यूटर के motherboard के साथ जुड़ा हुआ एक अत्यंत आवश्यक software है। जो एक Computer के शुरू होने पर Keyboard, RAM, Mouse, Hard drive, Processor और दूसरे अन्य पुर्जों की पहचान करके उन्हे शुरू कराता है।


Slots For External Devices – किसी भी कंप्यूटर का motherboard एक ऐसा स्थान है जहां अतिरिक्त (External) पुर्जे लगाने की सुविधा होती है। उदाहरण के तौर पर अगर आपके नए कंप्यूटर पर 500 GB का कुल जगह उपलब्ध है और आप अतिरिक्त 100 GB Space बढ़ाना चाहें, तो Motherboard पर दिए गए Extra Extension slot पर नया खरीदा हुआ 100 GB हार्ड डिस्क लगाकर अपने कंप्यूटर की जगह (Space) बढ़ा सकते हैं। ठीक इसी तरह RAM और DVD Player और अन्य पुर्जे भी Extra Slot की सहायता से लगा सकते हैं।


Power Supply – एक कंप्यूटर पर अलग-अलग पुर्जे को कम या ज़्यादा मात्र में विद्युत ऊर्जा की आवश्यकता होती है। Motherboard ही वह main PCB है, जो हर पुर्जे को सभी मात्र में Power Supply प्रदान करके उसे सही तरीके से कार्यरत रखता है।


Heart Of The System – अगर कंप्यूटर का motherboard खराब हो जाए तो किसी विशेषज्ञ की सहायता के बिना उसे ठीक करना मुश्किल होता है। यह मुख्य पुर्जा एक कंप्यूटर की जान होता है। अगर computer के motherboard को सलामत रखना है, तो घर की Electric line का सही ग्राउंडिंग (Earthing) ज़रूर करवा लें। 


कंप्यूटर के मदरबोर्ड को dust free और ठंडा रखना बहुत ज़रूरी है। CPU फ़ैन (पंखा) सही काम कर रहा है या नहीं यह ज़रूर सुनिश्चित करें। लैपटॉप है तो cooling pad fan का उपयोग करें।


Data System – किसी भी कंप्यूटर पर Hardware पुरज़े लगा देने से computer काम नहीं करने लगता है। Hardware तथा software दोनों के बीछ सही ताल-मेल बिठाना अत्यंत ज़रूरी होता है। कौन से पुर्जे के hardware को कौनसा software कैसे handle करेगा? किस command का क्या output होगा? 


इस तरह का महत्वपूर्ण data system का आदान-प्रदान (communication) मदरबोर्ड संचालित करता है। कंप्यूटर में एक Motherboard एक डाटा ट्राफिक manager की भूमिका निभाता है।


नया मदरबोर्ड खरीदते समय क्या-क्या बातें ध्यान में रखनी होती हैं?


बाज़ार से Motherboard खरीदते समय अवश्य ध्यान दें कि जो Motherboard आप ले रहें हैं वह आपके Computer पर support करेगा या नहीं। इसलिए unsupported motherboard दुकानदार वापिस रखे तो ही उस के पास से यह पुर्जा ना खरीदें।


Motherboard खरीद रहें हैं तो यह ध्यान दें कि उस company का मदरबोर्ड reparable है भी या नहीं। कई बार कम कीमत के कारण कई लोग Non reparable या outdated मदरबोर्ड खरीद कर अपने कंप्यूटर में लगाने की गलती कर बैठते हैं और फिर आधुनिक तकनीक वाले software उसमें काम नहीं कर पाते हैं। एक बार Motherboard खराब हो जाने पर पूरा पैसा भी बर्बाद हो जाता है।


नया मदरबोर्ड खरीदें तो उसके BUS का speed ज़रूर चेक करें। बस के speed से मालूम पड़ता है कि एक से दूसरे पुर्जे तक data कितनी गति से दौड़ेगा। Motherboard के BUS का MHz (Mega Hertz) सही हुआ तो Data Transfer सही गति से होगा।


कंप्यूटर किस प्रकार के उपयोग में लेना है उस बात को ध्यान में रखते हुए motherboard चुनें। अगर पैसों को ध्यान में रखते हुए या बड़े ब्रांड को देखकर कम Expansion वाला मदरबोर्ड खरीद लिया तो आप उस बोर्ड पर ज़रूरी पुर्जे Expand करके लगा नहीं सकेंगे और पैसा वेस्ट हो जाएगा। इसलिए Expansion की जानकारी अच्छे से समझकर ही Motherboard खरीदें।


सारे पुर्जों और डाटा को process करने का काम motherboard processor का होता है। एक बार सही Motherboard चुन लेने के बाद यह सुनिश्चित कर लें कि उसका processor किस प्रकार की गुणवत्ता का है। उसकी गति क्या है और आप की ज़रूरत के अनुसार वह काम दे सकता है या नहीं। इस बात को समझने के लिए किसी कंप्यूटर विशेषज्ञ का opinion ज़रूर लें।


Video making, Animation, Photoshop और दूसरे अन्य भारी सॉफ्टवेर उपयोग करने है, तो यह अवश्य जान लें कि Motherboard पर RAM कितना support करेगा, और additional hard drive memory कितनी लगाई जा सकती है। याद रखें कि कम RAM हुआ तो computer बार-बार Hang होगा और काफी धीमी गति से काम देगा जो एक professional व्यक्ति को बिलकुल नहीं चलेगा। ठीक उसी तरह additional space नहीं हुई तो बड़ी size का डाटा store करना नामुमकिन होगा।


What is Motherboard in Hindi Conclusion:


विशेष – एक कंप्यूटर में Motherboard लगाना (Install) करना आज से 10 साल पहले बड़ा काम था। पर आज यह बहुत आसान काम है। सही quality का मदरबोर्ड लेने के बाद Internet Tutorial Blogs और installation guide की सहायता से बड़ी आसानी से यह काम पूरा किया जा सकता है। 


अगर आप चाहें तो YouTube videos  की सहायता से भी यह कार्य कर सकते हैं। वर्तमान समय में Motherboard online भी मंगाए जा सकते हैं। Flipkart और Amazone जैसी बड़ी-बड़ी ऑनलाइन स्टोर पर बहुत अच्छी quality motherboard मिल जाते हैं। और लागू ना होने पर product वापिस भी किया जा सकता है।


उम्मीद है आपको हमारी यह जानकारी What is Motherboard in Hindi?, Motherboard की कार्य प्रणाली क्या है? और Best Quality का Motherboard कैसे चुनें? पसंद आई होगी। कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें। धन्यवाद।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां